नई दिल्ली: म्यूचुअल फंड में एसआईपी: करोड़पति बनने के लिए रिटायरमेंट तक इंतजार क्यों करना चाहिए, आजकल ट्रेंड अर्ली रिटायरमेंट का है। मौजूदा समय की युवा पीढ़ी, बचत और रिटायरमेंट प्लानिंग को लेकर काफी सजग हैं, वो 60 साल की उम्र तक काम नहीं करना चाहते हैं, बल्कि 45 या 50 साल तक इतना पैसा इकट्ठा कर लेना चाहते हैं कि नौकरी छोड़कर बाकी की जिंदगी आराम से धार्मिक हो जाए। कटौती की गई।

45 साल की उम्र में करोड़पति कैसे बने

अगर आपकी भी सोच यही है तो आपको आज से और अभी से म्यूचुअल फंड में निवेश की शुरुआत कर देनी चाहिए, क्योंकि पारंपरिक स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स से आप अपने एग्रेसिव लक्ष्यों को हासिल नहीं कर सकते, इसके लिए आपको थोड़ा रिस्क उठाना पड़ेगा। आप 60 की बजाय 45 की उम्र में रिटायर होने वाले चाहते हैं तो आपको निवेश पर ज्यादा रिटर्न भी चाहिए, इसके लिए मल्टीपल म्युचुअल फंड बेहतर विकल्प हो सकते हैं। क्योंकि जब आप युवा होते हैं तो आप रिस्क भी बहुत ले सकते हैं।

ये भी पढ़ें- SBI कस्टमर्स के लिए बड़ी राहत! केवाईसी के लिए ब्रांच जाने की जरूरत नहीं, ई-मेल से हो जाएगा काम

अगर आप 45 या 50 साल की उम्र में ही 1 करोड़ या 2 करोड़ रुपये का कोस इकट्ठा करना चाहते हैं तो आपको कुछ चीजें करनी होंगी

१। आपको 20-30 साल की उम्र में ही निवेश की शुरुआत करनी होगी
२। इनकम बढ़ने के साथ साथ निवेश को भी बढ़ाते रहना होगा

जब आप युवा होते हैं तो आपके अंदर रिस्क लेने की क्षमता बहुत होती है। हम में से ज्यादातर लोग 20 साल की उम्र में नौकरी या कमाई शुरू कर देते हैं। आप इसी उम्र से केवल 500 रुपये से म्यूचुअल फंड में एसआईपी शुरू कर सकते हैं। जिसे धीरे-धीरे धीरे-धीरे रहना चाहिए। चूंकि ये लॉन्ग टर्म निवेश होगा इसलिए आपको शेयर बाजार के उठापटक का असर भी नहीं होगा। आमतौर पर विविध म्यूचुअल फंड लंबी अवधि में 12-15 परसेंट का रिटर्न देते हैं।

उदाहरण संख्या 1

तो चलिए आपको बताते हैं कि अगर आपने 25 साल की उम्र में अगर एसआईपी शुरू की है और 45 साल की उम्र में 1 करोड़ रुपये हासिल करने का लक्ष्य रखा है तो आपको महीने का 11,000 रुपये एसआईपी में निवेश करना होगा, यानी दिन का 367 रुपये बचाना होगा और उसे निवेश करना होगा। मान लीजिए आपको इस 20 साल की अवधि में औसत 12 परसेंट का रिटर्न मिलता है।

उम्र 25 साल
अनुरक्षण 45 वर्ष
निवेश की अवधि 20 वर्ष
मासिक निवेश 11,000 रुपये
रेटिंग 12 परसेंट
निवेश राशि 26.four लाख रु
कुल मिलाकर 83.50 लाख रु
कुल राशि 1.09 करोडड रु

उदाहरण संख्या 2

मान लीजिए आप 30 साल के हैं 45 साल की उम्र में रिटायर होना चाहते हैं तो आपको 663 रुपये रोजाना यानी महीने का 19900 रुपए एसआईपी में जमा करना होगा। तब आप जब 45 वर्ष के होंगे तो आपके हाथ में 1 करोड़ रुपये की राशि होगी। अब चूंकि आप 25 साल की बजाय 30 साल में निवेश शुरू कर रहे हैं, तो आपके निवेश की राशि भी लगभग दोगुनी हो गई हैं, लेकिन अंतिम राशि 1 करोड़ रुपये ही है। आप जितना देर से शुरू करेंगे, आपको उतना ही कम मिलेगा।

उम्र 30 साल
अनुरक्षण 45 वर्ष
निवेश की अवधि 15 वर्ष
मासिक निवेश 19,900 रुपये
रेटिंग 12 परसेंट
निवेश राशि 35.82 लाख रु
कुल मिलाकर 64.59 लाख रु
कुल राशि 1 करोड़ रु

उदाहरण संख्या 3

अब मान लीजिए आप सिर्फ 20 साल की उम्र में निवेश की शुरुआत करते हैं तो क्या होगा। ऐसे में आपके पास निवेश करने के लिए 25 साल का लंबा समय होगा, कंपाउंडिंग का फायदा आप जमकर उठाएंगे। 45 साल की उम्र में एक करोड़ रुपये हासिल करने के लिए आपको 5300 रुपये की मंथली एसआईपी करनी होगी यानी 177 रुपये रोजाना जायेंगे। यानी आप जितने पैसे कमाएंगे, उतना ही पैसा कमाएंगे।

उम्र 20 साल
अनुरक्षण 45 वर्ष
निवेश की अवधि 25 वर्ष
मासिक निवेश 5300 रु
रेटिंग 12 परसेंट
निवेश राशि 15.90 लाख रुपये
कुल मिलाकर 84.67 लाख रु
कुल राशि 1 करोड़ रु

ये भी पढ़ें- GST रिटर्न: कारोबारियों को सरकार ने दी बड़ी राहत, GST रिटर्न देरी से फाइल करने पर नहीं लगेगी लेट फीस!

लाइव टीवी



Source link