नई दिल्ली: टेलीविजन एक्ट्रेस विभा भगत (विभा भगत) इन दिनों ससुराल सिमर का शो के दूसरे सीजन (ससुराल सिमर का 2) में दिखाई दे रही हैं। उनका समय अब ​​भले ही बेहतर हो गया हो, लेकिन उनके बीते दो साल मुश्किल भरे रहे। उन्होंने बीते दो वर्षों में काफी संघर्ष किया और काफी कुछ खोया, लेकिन इस सबके बीच उन्होंने खुद को संभाले रखा। मानसिक और आर्थिक दृष्टिकोण से वे डट कर लरीं और उबारी भी। अब उन्होंने अपने संघर्ष के बारे में खुलकर बात की है।

पिता की मौत और फिर आर्थिक हालात

विभा भगत (विभा भगत) कहती हैं, ‘बीते दो साल मेरे लिए प्रोफेशनली और पर्सनली सबसे मुश्किल रहे। मेरे पिता का निधन हो गया और मुझे काम भी नहीं मिल रहा था। इस कारण से मैं न सिर्फ आर्थी रूप से टूटी, बल्कि भावनात्मक रूप से भी पूरी तरह से बत्ती गई थी। ऐसा भी एक वक्त आया जब मैं सिर्फ दिनभर में एक देर का खाना ही खरीद पा रहा था। चाहे कोई फल खरीद लेती थी, चाहे कभी एक बिस्किट का पैकेट खरीद लेती थी। पर हम कलाकार इस बारे में कभी बात नहीं करते क्योंकि हमने ऐसा ही जीवन चुना है, लेकिन इस सबके बावजूद ससुराल सिमर का 2 (ससुराल सिमर का 2) शुरू हुआ और मुझे काम मिला। ‘

खुद को मजबूत किया

विभा भगत (विभा भगत) ने बताया, ‘इन दो सालों ने मुझे सिखाया कि मैं वास्तव में अपने जीवन से क्या चाहती हूं। मैंने सेल्फ-ग्रूमिंग करके खुद पर ध्यान दिया और खुद को समय दिया। मुझे पीसीओ और थायरॉइड है, इसलिए मैंने यह सुनिश्चित किया कि ये और न बढ़े। इसके लिए मैंने घर पर हर दिन तीन घंटे की मेहनत की और इस तरह से मुझे अपने अंदर का स्पार्क वापस लाने में मदद मिली। मैंने पेंटिंग की, मेडिटेशन और कुकिंग की, सब कुछ किया जिससे मुझे अपने और अपने अस्तित्व के बारे में अच्छा महसूस हो। ‘

आंग्जायटी अटैक्स थे

विभा भगत (विभा भगत) आगे कहती हैं, ‘मैं इस तथ्य को नजरअंदाज नहीं कर सकता कि मुझे एंग्जायत अटैक्स (चिंता के हमलों) आते थे, लेकिन किसी भी तरह मैं उस सब से उबर जोड़ा। मेरे दोस्त मुझे प्रेरित करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं क्योंकि यह एक लंबा पीरियड है और कोई भी इस तरह कठिन समय को तोड़ सकता है। ‘

ये भी पढ़ें: KGF Chapter 2: इस आलिशान महल में यश को मिलेगा हसीना, होगा धमाकेदार डांस

इंटरटेनमेंट की लेटेस्ट और इंटरेस्टिंग खबरों के लिए यहां क्लिक करें ज़ी न्यूज़ के मनोरंजन फेसबुक पेज करें लाइक करें



Source link