नई दिल्ली: RBI प्रेस कॉन्फ्रेंस: देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से बैंकों और वित्तीय संस्थानों पर भी बुरा असर पड़ रहा है। आज इस महामारी के बीच भारतीय रिजर्व बैंक RBI एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाला है। RBI की ये प्रेस कॉन्फ्रेंस आज सुबह 10 बजे होगी, शेयर बाज़ार, वित्तीय संस्थान, बैंक सहित पूरे देश की नज़र आज RBI गवर्नर शक्तिकांत दास पर होगी, कि आज वो क्या ऐलान करने वाले हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स में छपी खबरों के मुताबिक, सूत्रों के हवाले से पता चला है कि बैंक्स और आरबीआई कोरोना की दूसरी लहर का असर जानने की कोशिश में जुटे हैं, इसलिए अगले कुछ महीनों में मोराटोरियम की क्षमता को तय कर लिया जा सकता है। बैंकों को कहना है कि रिजर्व बैंक मौजूदा हालात को समझता है, उम्मीद है कि इसी के अनुसार वे कुछ फैसला करेंगे

कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप से छोटे, मध्यम श्रेणी के लोगों, बैंकों ने अब एक बार फिर से रिजर्व बैंक की ओर से उम्मीद शुरू देखने से दिया है कि उनकी तरफ से देनदारों को कोई राहत दी जाए ताकि उन्हें इस मुश्किल घड़ी में कुछ राहत मिल सके, साथ ही बैंकों की बैलेंस शीट पर भी असर न पड़ा, क्योंकि उनके एनपीए बढ़ने का भी मंडरा रहा है।

सूत्रों के मुताबिक, बैंकिंग उद्योग में बैंक्स और RBI दोनों ही इस महामारी का उद्योग पर क्या असर पड़ेगा, इसका सही सही आंकलन करने की कोशिश में जुटे हैं। ईटी नाउ में छपी खबर के मुताबिक इंडियन बैंक्स एसोसिएशन के सीईओ सुनील मेहता ने कहा कि हम मोराटोरियम को तय करने में अभी सक्षम नहीं हैं, क्योंकि अभी हम कुछ शर्तों का जायजा ले रहे हैं। अभी स्थिति पूरी तरह साफ नहीं हुई है। बैंक जब इसका आँकड़ा कर देगा तो RBI के सामने इसे रखेगा।

रिजर्व बैंक से बैंक्स कई चिट्ठियां लिखकर राहत की मांग कर चुके हैं। 12 अप्रैल को हुई बैठक में भी इस बात को लेकर चर्चा हुई थी। आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस में कयास लगाए जा रहे हैं कि शक्तिकांता दास मोराटोरियम, बैंकों और वित्तीय संस्थानों के लिए कुछ गाइडलाइंस का ऐलान कर सकते हैं।

लाइव टीवी



Source link