नई दिल्ली। चीन ने Baidu और Tencent जैसे डाक कंपनियों सहित 33 ऐप को लिस्ट किया गया है, ये ऐप यूजर्स का डेटा इकट्ठा कर रहे थे और रिजूलेटरी के नियमों को तोड़ रहे थे। चीन ने इन सभी ऐप्स को इन खामियों को दूर करने के लिए 15 दिनों का समय दिया है। जानिए क्या है पूरा मामला …वास्तव में, सरकार ने यूजर्स और साइबर कैप्टन ऑफ चाइना (चीन का साइबरस्पेस प्रशासन) द्वारा शिकायत मिलने के बाद यह कदम उठाया गया है। साइबरलाइट्स ऑफ चाइना (CAC) ने यूजर्स की शिकायतों का हवाला दिया, विभिन्न रेगुलेटरी नियमों को तोड़ने के लिए 33 मोबाइल ऐप को लिस्ट किया गया है।

अपकमिंग बजट फोन! भारत में जल्द ही लॉन्च होंगे वनप्लस नॉर्ड एन 100 और नॉर्ड एन 10 5 जी, देखें खास फीचर्स

एप्लिकेशन के ऑपरचर्स ने नियमों का तोड़ा है
साइबरलाइट्स ऑफ चाइल्ड (CAC) ने शनिवार को स्टेटमेंट में बताया कि इन ऐप्स पर लोकल रेगुलेशन नियम को तोड़ा है। खासतौर पर व्यक्तिगत डेटा को इकट्ठा करना, जो कि उनकी सेवा के लिए जरूरी नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि ‘ऐप्स के ऑपरेशर्स ने नियमों का तोड़ा है। ऑथोरिटीज ने कई लोकप्रिय एप्लिकेशन को देखा, जिसमें मैप्स नेविगेशन ऐप भी मौजूद हैं। ‘

लीक में खुलासा! इस दमदार फास्टनर के साथ सैमसंग गैलेक्सी जेड फोल्ड 3, जानिए अन्य डिटेल

अलीबाबा ने अरबों रुपये का जुर्माना लगाया

  • इस लिस्ट में सोगौ, Baidu, Tencent, QQ और झेजियांग जियानक्सिन । CE ऐप्स शामिल हैं। चीनी सरकार ने टेक्नोलॉजी कंपनियों की बढ़ती ताकत को रोकने और यूजर्स के अधिकारों की सुरक्षित रखने के लिए नए कदम उठाने शुरू कर दिए हैं।
  • चीनी रेगुलेटर्स ने बीते महीने दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी की अलीबाबा ग्रुप होल्डिंग पर 18.2 बिलियन युआन (लगभग 2 लाख करोड़ रुपये) का जुर्माना लगाया गया था। अलीबाबा ग्रुप पर फिक्स देश में एंटी-मोनोपोली विरोधी नियमों का उल्लंघन करने के लिए लगाया गया था। चीनी सरकार देश में इंटरनेट कंपनियों की पावर पर सीमित रखना चाहती थी।



Source link